Click to Download this video!
मामी की चूत का भोसड़ा बना दिया

हेल्लो दोस्तो, आज मैं आपको अपने विषय में कुछ सुनाने के लिए जा रहा हूँ | आज मैं आपके अपनी चुदाई के विषय में अवगत कराने जा रहा हूँ | मैं एक ड्राईवर हूँ और मैं कार चलाकर अपनी जीविका चलाया करता हूँ | चलिए जानते है मैंने ऐसा कैसे कर लिए | आज मैं आपको जो सुनाने जा रहा हूँ वो उन दिनो की हकीकत है जब मैं ड्राईवर की नौकरी किया करता था | मैं गाव से शहर आया था ताकि मैं अपनी जीविका को चला सकू | जब मेरे घर पर कोई नही था तो एक दिन मैंने एक लड़की को अपने किराये के घर पर लाया था फिर मौका पाकर मैंने उस लड़की को चोद डाला | चलिए जानते है की मैं ये कैसे करता था | मैं अपना गाव को छोडकर शहर पर आया हुआ था | तब शहर पर एक परिचित का बन्दा रहा करता था | शहर पर मेरा वो परिचित रहा करता था उसने मुझे उसके मामा से मुझे मिलवाया था | उसके मामा के घर पर एक कार थी | उसके मामा ने मुझे बताया की वो बुजुर्ग हो चुके है | इसलिए उन्होने ने मुझ से कहा था की तुम मेरी कार को अगर चला सकते हो तो तुम्हारे लिए मेरे पास एक नौकरी है | उसके मामा की दी हुई नौकरी के लिए मैंने हा कर दिया |

मैं जिसकी कार को चलाता था एक दिन मैंने उसी की पत्नी को उसकी कार पर चोदा था | जिस परिचित ने मुझे उसके मामा से मिलवाया था उसके मामा की एक कम्पनी थी जिसके की वो मालिक थे | वो लेकिन काफी बुजर्ग हो चुके थे इसलिए उन्होने मुझे उनकी कार चलाने के लिए दिया था | मैं उनका ड्राईवर बन चूका था इसलिए जब भी कभी उनको कम्पनी तक पहुचना होता था तो मैं उन्हे पहुचा दिया करता था | इसके आलावा जब भी कभी उन्हे कम्पनी से लाना होता था तब मैं उन्हे कम्पनी से घर पर ले कर आता था | उन्होने मुझे एक कमरा भी रहने के लिए दिया था जहा पर मैं कार से मामा को लाने के बाद आराम करता था | इसके आलावा मेरे मामा ने मुझे सुविधा भी दिया हुआ था जैसे जब उनके घर पर सुबह, दोपहर और शाम को भोजन बनता था तब वो लोग मुझे भोजन पहुचा दिया करते थे | इसके आलावा जब मैं उनकी कार को चलाता था | तब वो मुझे उनके घर का सदस्य मानते थे | इसलिए उनके घर पर जब भी कोई कार्यकर्म हुआ करता था तब उनके घर पर तयारी मुझे सौप दिया जाता था और मैं उनके घर पर हो रहे कार्यक्रम को सम्भाला करता था | मामा के आलावा मुझे मामी को भी कभी न कभी कही पर पहचाना पड़ता था |

भले मेरे मामा ने मुझे उनके घर पर एक कमरा रहने के लिए दिया था लेकिन फिर भी मैंने एक कमरा किराये पर लिया हुआ था | पहेले मैंने कोई किराये का कमरा नही लिया था लेकिन जब मैंने मामी को चोदा तो मुझे एक किराये का कमरा लेना पड़ा | क्योकि मामा भी उसी घर पर रहा करता था और अगर मैं उनकी पत्नी को उनके घर चोदता तो मैं पकड़ा जा सकता था इसलिए पकड़ने से बचने के लिए मैंने एक किराये का कमरा लिया था | चलिए जानते है उस दिन क्या हुआ था जब मैंने मामा की पत्नी को चोदा था | मामा के घर पर मामा, मामी, एक लड़की जो की घर का कार्य करने वाली नौकरानी थी और मैं उनके घर पर रहा करता था | मामा के घर पर आराम से घुमा करता था किसी भी कमरे पर आराम से जाया करता था | जो कमरा मुझे रहने के लिए दिया गया था उस कमरे पर मामी भी आ जाती थी | उन्होने मुझे उनके घर का सदस्य के रूप में अपना लिया था | इस लिए मेरे पास मौका था की मैं उनकी पत्नी को कभी भी सरलता से चोद सकता था |

एक दिन मैंने उस कारनामे को कर दिया | घर पर नौकरानी थी फिर भी मैंने मामा की पत्नी को सरलता से चोद डाला | जब नौकरानी घर का भोजन बनाने में व्यस्त थी तब मैं मामी के कमरे पर घुसा हुआ था तब मैं मामी से बात कर रहा था | कुछ देर बाद मामी ने मुझ से कहा की उन्हे कपडे बदलना है फिर वो कपडे बदलने के लिए चली गई | मैं उनके कमरे पर घुसा हुआ था जब उन्होने मुझ से कहा की उनको कपडे बदलना है तो मैं उनके कमरे से बाहर निकल आया | कमरे से बाहर निकलने के बाद मैंने पर्दा हटाया तो देखा की मामी ने उनका सलवार और पजामा खोल दिया था फिर वो जब उनका नया कपडा पहन रही थी तब मैंने पहेले से ही अपना रुमाल उनके कमरे में छोड़ दिया था उसे लेने के लिए उनके कमरे पर घुस गया | तब मामी ने ब्रा और चड्डी पहनी हुई थी | जब मैं मामी के कमरे पर घुस गया तो वो चकित पड़ गई | तब मैं उन्हे देखकर हसने लगा | फिर मामी भी मुझे देखकर हसने लगी | उन्होने मुझ से कहा की तुम किसलिए आये तो मैंने उन्हे बताया की मैं रुमाल लेने के लिए यहा पर आया हूँ | रुमाल उठाने के बाद मैं उन्हे देखकर हसने लगा | फिर मैंने वो किया जिसके लिए मैंने अपना रुमाल छोडकर कमरे से बाहर गया हुआ था | फिर मैंने मामी को गले लगा लिया | मामी ने मेरा साथ दिया | फिर गले लगाते हुए मैंने उनकी गाड को दबाना शुरु कर दिया | जब मैं उनकी गाड को दबा रहा था तब गाड को दबाने के बाद मैं उनके होटो को चूमना शुरु कर दिया |

इतना करने के बाद फिर मैंने उनकी दूध को दबाना शुरु कर दिया | फिर उसके बाद मैंने उनका ब्रा उतार दिया | ब्रा को उतरने के बाद मैंने फिर उनके दूध को पीना शुरु कर दिया | उनके दूध बड़े थे और मैं उनके दूध को पीने में व्यस्त था | कुछ समय के बाद मुझे उसकी चूत को चाटने था इसलिए मैंने मामी की चड्डी को निचे खीचा और उन्हे नंगी कर दिया | जब वो नंगी हो चुकी थी तब मैंने उसके चूत के अन्दर अपना लंड घुसेड दिया | फिर मैं अपने लंड को घुसेडता रहा | कुछ समय तक मेरा लंड उनकी चूत के अन्दर और बाहर जा रहा था | जब मेरे लंड की गर्मी बड़ने लगी तब मेरे लंड से मलाई की उलटिया होना शुरु हो गई | कुछ समय की चुदाई के दौरान मैंने मामी से एक खास परिचय बना लिया था | इसलिए उस दिन के बाद से मुझे एक अवसर मिल गया था की मैं मामी से कुछ भी करवा सकता था | मामी का व्यवहार शुरु से ही मेरे लिए सरल था | चुदाई करने के बाद मामी के व्यवहार पर कोई फर्क नही पड़ा | उस चुदाई के बाद मामी ने मुझे घर की जिम्मेदारी से लाद दिया | मामी ने मुझे घर की जिम्मेदारी जब सौप दी थी तब मुझे घर के लिए छोटे मोटे चीजो को लाना पड़ता था जो पहले घर की नौकरानी करती थी | पहले नौकरानी घर का कार्य करती थी जैसे सब्जी लाना, डाल, चावल, गेहू लाना, इत्यादि कार्य वो नौकरानी करती थी | लेकिन जिम्मेदारी आने के वजय से मुझे उस नौकरानी का कार्य सौप दिया गया | मेरी मामी से खास पहचान बन चुकी थी | मैं मामी का एक मित्र बन चूका था | इसलिए मैं मामी के साथ खुलकर रहता था | इतना ही नही कुछ महीने के बाद मामी मुझ से कहने लगी थी अगर तुमको कुछ भी खाना हो तुम बिना नौकरानी से कहे किचन पर घुस कर कुछ भी बना सकते हो | मामा भी मेरे हातो से बनाया हुआ भोजन खाते थे | भोजन खाने के बाद मैं मामा के साथ घर के आंगन पर घुमा करता था | जब मुझे मामी से मिलने होता था | तब मैं उनके घर पर घुस जाता था और किचन पर कुछ बनाकर लाता था मामी और नौकरानी को खाने के लिए देता था |

मामी के कमरे पर घुसने के लिए कुछ भी किचन से बनाकर ले आता था और मामी को भोजन खिलने के बहाने उनके कमरे पर घुस जाता था | इसके आलावा मामी के घर पर घुस कर मैं उन्हे छेड़ा करता था | एक दिन मुझे मालूम चला की नौकरानी कुछ महीने के लिए किसी वजय से बाहर जाने वाली है तब मामी ने मुझ को एक जिम्मेदारी सौपी थी | जिम्मेदारी के वजय से मैंने एक नौकरानी को अपने साथ ले कर आया हुआ था | लेकिन वो नौकरानी एक शर्त पर घर का कार्य करने के लिए आई हुई थी | उस नौकरानी की शर्त थी की वो सुबह, दोपहर और शाम को घर का कार्य करने के लिए आ सकती है लेकिन वो मामा के घर पर नही रहेगी क्योकि उसका पति भी है | उस नौकरानी को उसके घर पर जाना पडता था | इसलिए वो लड़की जो की नौकरानी बनकर आई हुई थी उसके निश्चित समय पर आती थी फिर घर का कार्य जैसे झाड़ू, पोछा, भोजन बनाकर, इत्यादि घर के कार्य करके चली जाती थी | तब मेरे पास मौका होता था की मैं मामी को आसानी से चोद सकता था |

एक दिन जब मामी किचन पर घुसी हुई थी तब मैं उनके किचन पर घुस गया तब मैंने उनको छेड़ना शुरु कर दिया | छेड़ने के दौरान फिर मैंने वो किया जो उस दिन मुझे करने का मौका मिला था | छेड़ने के दौरान मैंने मामी के दूध को दबाना शुरु कर दिया ऐसा करने पर मामी भी मेरा साथ देने लगी | दूध को दबाने के बाद फिर मैंने उनकी गाड को दबाना शुरु कर दिया | उस दिन मेरे पास मौका था क्योकि नौकरानी और मामा भी घर पर नही थे | मामी को फिर मैंने अपने गोद पर उठा लिया | गोद पर उठाने के बाद मैं उनको एक कमरे पर ले कर गया और एक बिस्तर पर ले जा कर लेटा दिया | बिस्तर पर लेटने के बाद फिर मैंने उनकी साडी को उतार दिया | साडी जब उतार दिया था तब उन्होने सिर्फ बलाउज और पेटी कोट पहना हुआ था | बिना बलाउज को उतारे हुए फिर मैं उनकी दूध को दबाने लगा | फिर मैंने ब्लाउज को ऊपर उठाया और फिर मैं उनके दूध को पीने लगा | कुछ समय तक ये सिलसिला चलता रहा | फिर मैंने मामी के पेटी कोट को ऊपर उठा दिया और उनके पेटी कोट के अन्दर घुस गया | पेटी कोट को उठाने के बाद फिर मैं उनकी चूत को अपने जीब से चाटने लगा | उस दिन लेकिन मेरे पास समय नही था इसलिए मैंने मामी से कहा की मुझे कही पर जाना है इसलिए आज मैं सिर्फ आपके चूत को चाट सकता हूँ लेकिन आपकी चुदाई नही कर सकता हूँ | फिर मैंने कपडे पहन लिए और कमरे से बाहर निकल आया |


Share on :

Online porn video at mobile phone